">

Manthan

कर्म

मैं ही था जो खड़ा मंथन में हलाहल पी रहा।वो मैं ही था जो इस संसार को भी जी रहा। हर कण में मैं ही व्याप्त हूं।हर शंख का उद्घोष मैं। हर समय की धार में,हर काल का मैं पार्थ हूं। मैं ही वो अर्जुन रण में था,और मैं ही कर्ण धीरवीर हूं। पेड़ की […]कर्म

1
Skip to toolbar